To Get Yearly Paid Subscription in English
JOIN NOW
To Get Yearly Paid Subscription in Hindi
JOIN NOW
समतल हस्तक व्याख्यान और महत्वपूर्णता कथक के प्रारंभिक स्तर के लिए ।

समतल हस्तक व्याख्यान और महत्वपूर्णता कथक के प्रारंभिक स्तर के लिए ।

समतल शब्द समान, बराबर या एक ही स्तर पर होने वाले अंग संचालन के बारे में है । इसमें दोनों दिशाओं पर हाथों को एक एक बार खींचकर दिखाना होता है । याद रहे दोनों ही दिशाओं में हाथों का बराबरी से एक ही स्तर पर खिंचा होना अनिवार्य है । समतल हमारे नृत्य प्रदर्शन में अक्सर इस्तमाल किया जाता है । कथक में नमस्कार की परिक्रिया भी समतल से ही शुरु होती है ।