To Get Yearly Paid Subscription in English
JOIN NOW
To Get Yearly Paid Subscription in Hindi
JOIN NOW
कथक का रियाज़ - तत्कार के शूरूवात के सात

कथक का रियाज़ - तत्कार के शूरूवात के सात | तत्कार का इस्तमाल दिल के धड़कन को तेज़ करने के लिए।

गुरु पाली चन्द्रा अपने शिष्याओं के साथ तत्कार और हस्तक्स बराबर दुगुन और चोगुन में हमारे साथ प्रस्तुत करेंगी । क्यूंकि ये व्यायाम दिल की धड़कन को तेज़ करने के लिए करा जा रहा है इसलिए इसे हम वार्म अप एक्सरसाइज़ कहते है । ये अभ्यास बीस से तीस मिनिट तक होना आवश्यक है । यदि इस से कम समय में इसे पूर्ण किया गया तो धड़कन का साँसों से ताल्लुक बिगड सकता है । शरीर का सुंदर अंग बनाने के लिए एक अच्छा वार्म अप आवश्यक है ।