To Get Yearly Paid Subscription in English
JOIN NOW
To Get Yearly Paid Subscription in Hindi
JOIN NOW
गुरु वंदना शोलक और उसके मायने

गुरु वंदना शोलक और उसके मायने

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु
गुरुर्देवो महेश्वर :
गुरु साक्षात् परं ब्रह्म
तस्मै श्री गुरवे नम : ।

गुरु शब्द का सही अर्थ है वो जो अंधेरे को मिटाये । ये दो शब्दों से बना एक शब्द है । गु याने की अन्धेरा और रु मतलब हटाने वाला । अर्थात अंधेरे को हटाने वाला हमारा गुरु है । हमें अपने गुरु में त्रिमूर्ति का आकार दिखाई देता है । जो तीन भगवानों का स्वरूप है । ब्रह्मा, विष्णु और शिव ।
हमारे लिए हमारा गुरु भगवान ब्रह्म का आकार है । जो हमें विद्या रूपी प्रसाद देता है ।

हमारा गुरु विष्णु का स्वरूप भी है । वह हमें बनाई गई चीज़ों को सुरक्षित रखने का ग्यान और तरीका प्रदान करता है ।

गुरु शिव का रूप भी है । वह हमें बुराई को हटाने का तरीका और उपाय प्रदान करता है । गुरु हमें अग्यान हटाने के लिए विभिन्न प्रकार के रास्ते दिखाता है । इसलिए हमारा गुरु हमारे लिए वो अपार शक्ति है जो बुराई और अच्छाई, गलत और सही, इन सभी चीज़ें का संपूर्ण ग्यान देने का केन्द्र है । ऐसे गुरुजनों को शिष्य अपने तन मन से पूजनीय मानते हुए अपने श्रद्धा अर्पित करते हैं ।